स्नेह द्रव्य का आहार में और शरीर के लिए महत्व

स्नेह द्रव्य का सही प्रयोग मनुष्य के शरीर के लिये खूब जरूरी है,अभी के रिसर्च आर्टिकल्स साबित करते है की, घी और तैल का सम्यक प्रयोग कोलेस्ट्रॉल बढ़ावा नही करता है,और ह्रदय के लिए खूब जरूरी है।। ऐसा क्यू ?? आज कितने लोग कोलेस्ट्रॉल के चक्कर मे स्नेह द्रव्य खाने बंध कर देते है उसके बावजूद भी कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल नही होता है ।क्यूंकि की हमारे शरीर मे रुक्ष गुण बढ़ जाने से स्रोतस या vessels में मेद या आम का deposit होंने लगता है,यह भी भौतिक विज्ञान का नियम है कि जभी खर या ड्राय गुण बढेंगा वहां depositon ज्यादा होती है।।अब हम सम्यक स्नेह का प्रयोग से हम खर surface से होने वाले deposit से बचा सकते है। ऐसी ही तरह अश्मरी(Renal stone) भी 80%मरीज में पुनः और पुनः होती है,उसकी वजह यही है स्नेह द्रव्य का अल्प प्रयोग करना।। अश्मरी में एक बार अश्मरी निकल जाने के बाद वहां रुक्षता के कारण dryness या rough सरफेस (surface)बन जाती है,इसीलिए वह पर क्षार का deposit होता है इसीलिए वहां फिर अश्मरी हो जाती है।। इसीलिए हमारे आचार्य ने आहार विधि के नियम में भोजन को स्निग्धवत लेना का किया है। जो आज का मॉडर्न विज्ञान केहता है।।

5 Likes

LikeAnswersShare

Informative post. Thanks for sharing

Dear sir, agar kisi ka TRIGLYCERIDES badha hua hai to kya use oily food fatty food ghee khane ko de

THANKS FOR SHARING . USEFUL AND EDUCATIVE POST

Thank you doctor
0

Helpful post

Good information