NAVAL DISEASES

नाभि के रोग Naval Diseases मनुष्य के शरीर के विकास, नियंत्रण तथा संचालन में नाभि महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। माता के पेट में गर्भाधारण के समय से लेकर मृत्यु तक नाभि केन्द्र सतर्क, सक्रिय तथा सजग रहता है। माता के गर्भ के समय में नवजात शिशु का नाभि केन्द्र ही विकसित होता है। नवजात शिशु में नाभि केन्द्र ही प्राणों का संचय करता है। इसी के कारण ही उसके शरीर का विकास होता है। यदि नाभि शरीर में ठीक जगह न हो तो या फिर वह अपने स्थान से हट जाए, तो उसे `धरण पड़ गई` कहते हैं। इसके कारण शरीर में और भी कई रोग हो जाते हैं जैसे- यदि नाभि ऊपर की ओर चली गई तो गैस, खट्टी डकारें, कब्ज तथा कई प्रकार के रोग हो सकते हैं। यदि नाभि नीचे की ओर चली गई हो या फिर नीचे की ओर खिसक गई तो रोगी को दस्त लगना, जी-मिचलाना जैसे रोग हो जाते हैं। विभिन्न औषधियों से चिकित्सा :- 1. डायोस्कोरिया :- नाभि के चारों ओर दर्द होता है तथा दर्द का केन्द्र-बिंदु नाभि होता है। डायोस्कोरिया औषधि नाभि के इस प्रकार के दर्द को दूर करने के लिए लाभकारी होती है। पित्त के पथरी के दर्द को दूर करने के लिए भी डायोस्कोरिया औषधि का प्रयोग कर सकते हैं क्योंकि उसका दर्द भी नाभि के पास ही होता है। डायोस्कोरिया औषधि की 3 शक्ति का प्रयोग करना इस रोग को ठीक करने के लिए लाभकारी है। 2. कोलोसिंथ :- झुकने से नाभि के पास दर्द होता है, सीधा खड़ा रहने या पीछे की तरफ झुकने से आराम मिलता है। इस प्रकार के लक्षण रोगी में दिखाई दें तो रोग को ठीक करने के लिए कोलोसिंथ औषधि का प्रयोग करना चाहिए। 3. लाइकोपोडियम :- पेट में हवा भर जाने से नाभि में दर्द हो रहा हो तथा नाभि के आस-पास का भाग फूल गया हो तो उसे ठीक करने के लिए लाइकोपोडियम औषधि की 30 शक्ति का उपयोग करना चाहिए। 4. ऐलूमिना :- नाभि में दर्द हो तो उसे ठीक करने के लिए ऐलूमिना औषधि की 3 या 6 शक्ति का उपयोग करना लाभदायक होता है। 5. नक्स मौस्केट :- नवजात-शिशु के नाभि में अल्सर हो जाएं तो नक्स मौस्केट औषधि की 1, 3 या 6 शक्ति का प्रयोग करना चाहिए। 6. ऐब्रोटेनम :- नवजात-शिशु की नाभि से खून का स्राव हो रहा हो तो उपचार करने के लिए ऐब्रोटेनम औषधि की 30 शक्ति से उपचार करना उचित होता है।

3 Likes

LikeAnswersShare
Thanks Doctor very enlightening God bless you We all are family here
Thank you doctor
0

View 1 other reply

Dr Ranjit Kumar Poriya Homeopathy Helpful Post Doctor.
Thank you doctor
0
Of course ! Navel is Center of Activities .
Thank you doctor
0
Nice informative post Doctor
Thank you doctor
0
Helpful
Thank you doctor
0

Cases that would interest you