Concluded Case

Cardinal feature of jwara

ज्वरप्रत्यात्मिकं लिड्गं सन्तापो देह मानसो।। शरीर और मन में संताप का होना ज्वर का प्रत्यात्मक लक्षण (cardinal feature) है। शरीर में संताप का होना body k temperature Ka increase ho Jana h.body k temperature m hue increase ho hm thermometer ki help se measure kr skte. मन के सन्ताप का लक्षण इस प्रकार है- वैचित्यमरतिग्लानि्र्मनसन्ताप लक्षणं।। इंद्रियाणां च वैकृत्यं ज्ञेयं संताप लक्षणम्।। loss of mind (चित्त का न लगना ) be restless( बेचैनी होना) feeling of guilty(मन में ग्लानि होना) senses do not accept their subjects ( इंद्रियों का अपने विषयों को ग्रहण न करना)

3 Likes

LikeAnswersShare
Concluded answer
Dear Dr. Km Bhawana,यहां पर इन्द्रियाणां च वैकृत्यं का मतलब है , इन्द्रियां अपने विषयको नियत रिती से अलग प्रकार से अथवा विकृत रिती से कार्य करना । जैसे की सामान्य स्थिती में नेत्र जेसा दिखता है, संतापकी स्थिती में विस्फारीत हो जाते है ।
All Answers
Dear Dr. Km Bhawana,यहां पर इन्द्रियाणां च वैकृत्यं का मतलब है , इन्द्रियां अपने विषयको नियत रिती से अलग प्रकार से अथवा विकृत रिती से कार्य करना । जैसे की सामान्य स्थिती में नेत्र जेसा दिखता है, संतापकी स्थिती में विस्फारीत हो जाते है ।
Ok sir, aur इन्द्रियां Apne subject ko receive kregi ya ni?
0

View 1 other reply