कोविड़ 19 में तक्षशिला के आयुर्वेदिक ग्यान का प्रतिनिधित्व जरुरी

कोविड़ 19 में तक्षशिला के आयुर्वेदिक ग्यान का प्रतिनिधित्व जरुरीःवैद्य बालेन्दु

(Edited)

3 Likes

LikeAnswersShare
बैध बालेन्दू जी तो ऐक खानदानी विश्व प्रसिद्ध आयुरवेद के जन सेवक हैं।प्रसिद्ध खोजी भी हैं।ईनहे कोन नही जानता। माननीय प्रधान मंत्री ने बहुत दूरदृष्टि रखते हुऐ ही आयुष का लाभ लेने के लिऐ किया था।मगर अफसोस की ऐसे समय पर भी आयुष मंत्राल्य सोता रहा ? वैध बालेन्दू जी ईस लिऐ गलत नही हैं कि आयुरवेर मैं सेंकड़ो योग विधमान हैं जिनका परिक्षण 5 हजार सालों से मानवों पर ही किया जा रहा है।हर ऐम्स मैं आयुरवेद विंग है,क्यों नही दस रोगीयों को आयुष विशेषग्यों को सोंपा जाता ? मान लिया ऐलोपेथी ही सब कुछ हे तो फिर भी ईलाज के बावजुद ईतनी तादाद में मोतैं क्यों हो रही हैं? साध्य असाध्य तो हर पैथी मैं है। फिर भी ईतनी प्रसिद्ध हस्ती की बात भी न सुनना आश्र्चर्चय तो होगा। मेरे विचार से बड़ी फारमेसी व बाबा रामदैव जेसों को भी आगे आकर पक्ष रखना चाहिऐ।ऐसे समाचार के लिऐ आप का धन्यवाद।@Dr. Kedareshwar Pancholi ji.
Valuable opinion
0

View 1 other reply

श्रीमान डॉ पंचोली जी नमस्कार आप का कथन सत्य है किन्तु आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने कभी भी आयुर्वेद को मान्यता नहीं दी भारत सरकार पर एलोपैथिक चिकित्सकों का कब्जा है।
Thank you doctor
0
Respected Dr. Kedareshwar Pancholi Sir, It is necessary to use Ayurved knowledge.
Thank you doctor
0
Pioneer in using Rasa Kalpa for treating Pancreatic Disorders
Any detail is available sir.
1

View 1 other reply

Valuable opinion sir
Thank you doctor
0
Definitely sir. Ayurvedic chikitsa (treatment) must be included to treat covid 19 cases. Few cases should be solely treated by Ayurveda so that we can show the results to all. Regards
Respected Dr.kedareshwar Pancholi ji very informative post

Cases that would interest you