Concluded Case

how to ayurvedic medicine helped in loose motion with abdominal pain

6 Likes

LikeAnswersShare
Concluded answer

सप्ताह में एक वार रात को दुध के साथ अरंडी तेल दें ताकि आंतों में रूकी हुई क्च्ची आंव निकल सके वरना रोगी बार बार बिमारी पड़ेगा । डाइट में खिचड़ी दही या छाछ के साथ दें।अनार मोहंती का जूस दें। कुटज घन वटी, चित्रकादि वटी व महाशंख वटी मुस्तारिष्ट+ कुटजारिष्ट के साथ दें। आवश्यकता अनुसार गंगाधर चूर्ण का सेवन ।कुछ रोज रेस्ट करें।वजन का कार्य न करें। रोगी शीघ्र ठीक होगा।अनेकों बार अनुभत है। @Dr. Swati Dubey .

All Answers

सप्ताह में एक वार रात को दुध के साथ अरंडी तेल दें ताकि आंतों में रूकी हुई क्च्ची आंव निकल सके वरना रोगी बार बार बिमारी पड़ेगा । डाइट में खिचड़ी दही या छाछ के साथ दें।अनार मोहंती का जूस दें। कुटज घन वटी, चित्रकादि वटी व महाशंख वटी मुस्तारिष्ट+ कुटजारिष्ट के साथ दें। आवश्यकता अनुसार गंगाधर चूर्ण का सेवन ।कुछ रोज रेस्ट करें।वजन का कार्य न करें। रोगी शीघ्र ठीक होगा।अनेकों बार अनुभत है। @Dr. Swati Dubey .

Bahut bahut dhanyawad sir
1

रोगी संग्रहणी से पीड़ित है। चिकित्सा संबंधी योग,,,,, ग्रहणी कपाट रस 2 रत्ती पंचामृत पर्पटि 2 रत्ती सत गिलोय 4 रत्ती शहद में मिलाकर सुबह-शाम सेवन कराएं। कुटजारिष्ट 25 ग्राम सुबह-शाम खाने के बाद दें। रोगी को यवागु एवं विलेपी पर रक्खे एक सप्ताह तक। निश्चित रूप से लाभ होगा। योग परिक्षित है। पिछले 40 वर्ष से प्रयोग कर रहा हूं।

I agree
0

View 1 other reply

Ajama Lakshana Advise for Chitrakadi Vati 2 tab BD with luke warm water Advise for Laghu Ahar Must drink adequate quantity of water Must avoid Guru Ahar Advise for Walking

I agree
1

Dadimastaka churna 1tsp tid with buttrer milk. Kutaja gana vati.1tds. Kutajarista 2tsp tid with double water. Agni tundi vati tds. Strictly followed pathya apathya.

Valuable opinion
0

AVOID: stress,milk and milk products,tea ,raw salad,refined flour Advice:PANCHAMRIT PARPATI BD 250 MG CHITRAKAADI VATI BD 2 TABS DAADIMASTAK CHOORNA 1TBSP OD JEERAK CHOORNA (BHRIST)1 TBSP after each meal TAKRARISHTA 20 ML BD PANCHSHAKAR CHOORNA 1tsf at bed time Do's and diet: have buttermilk often (Probiotics) light diet

Valuable opinion
0

Shankh vati Sanjivani Kutjarishtha

Thanks
0

Diseases Related to Discussion