WORM TREATMENT

आदरणीय चिकित्सक । नमस्कार।। आज हम बात करेंगे पेट या आंतो मे हो जाने वाले फिताक्रिमी या अन्य प्रकार के करिमी अर्थात किडो की चिकित्सा के बारे मे। क्रीमिकूठार रस 2 से 4 गोली सुबह शाम खाकर ऊपर से नागरमोथा का क्वाथ पिये। इसे लगातार 21 दिनों तक सेवन कर सकते है। इसके प्रयोगकाल मे तीसरे चौथे दिन पंचसकार चूर्ण 6 माशा देने से कोष्ठ की शुद्धि होकर मरे हुए कीड़े बाहर आ जाते है। यदि पेट मे कीड़े तो हो पर दस्त साफ हो तो 7 दिन मे हि कीड़े मर जाते है यदि पेट साफ न हो तो वीडङादि चूर्णा या एरण्ड तेल से जुलाब दे, बाद मे क्रीमिकुठार देने से शीघ्र फायदा होता है क्युकी जुलाब देने से कीड़े कमजोर पड़ जाते है ओर मर भी जाते है। यदि पेट मे कीड़े ज्यादा हो तो रात् के समय क्रमिकूठार की एक गोली SENTONIN मे मिलाकर दे एवम सुबह एरण्ड तेल को दूध मे मिलाकर पिलाये बाद मे कुछ रोज तक कुमार्यासव भोजन के बाद देने से क्रिमी सदा के लिए नष्ट हो जाते है। क्रीमी कुठाररस के अलावा पलाश बीज के चूर्णा को विडंग आसव के साथ देने से भी शीघ्र फायदा होता है।। आदरणीय चिकित्सक अगर कोई गलती हो तो सुधारे एवम अन्य कोई योग भी हो तो बताये।। धन्यावाद।

3 Likes

LikeAnswersShare

बायबिडंग का चूर्ण बनाकर 5 ग्राम रात को सोते समय दूध के साथ दे। योग परिक्षित है। पिछले 45 वर्ष से प्रयोग कर रहा हूं।

I agree
0

Kamila is also effective in tape worm.

I agree
0

Informative post Dr.

Valuable opinion
0

Informative post

Thank you doctor
0

बहुत बढ़िया जानकारी है।धन्यवाद

Thank you doctor
0