Concluded Case

Lichen Simplex chronicus

यह रोगी को मैने Lichen simplex Chronicus diagnosis किया। और निम्न दवाएं दी। गन्धक रसायन आरोग्य. वटी वंग भस्म चक्रमर्द चूर्ण महामंजिष्ठादि क्वाथ लगाने के लिए महा मरीच्यादी तैल । किन्तु रोगी बता रहा है कि दवा सेवन करने के बाद vomiting होती है । मेरा अल्प अनुभव है , कृपया इसकी वजह बताये। धन्यवाद

5 Likes

LikeAnswersShare
Concluded answer

1.Chakramard churna band kar de 2.avipattikar churna 1 tag bed time (nitya virechan ) 3. Panchtikta ghrita guggulu (ghee or tablet form) 4.reat same as per you Best of luck. Do the same as m having 7yr of experiences in treating skin ailments.

All Answers

Dr Ranjit Kumar Poriya Homeopathy Diagnosis For Patient Pityriasis Rosea. Old man Stage. Rx Bacillinum 200 Weekly 1dose X1month. 1month After Do medicine 1m. Monthly 1dose X2month =2dose only. * Graphitis 30Xbd. 10day. 10 day After Do medicine 200 Weekly 1dose X1month =4 dose only.

Thank you doctor
0

1.Chakramard churna band kar de 2.avipattikar churna 1 tag bed time (nitya virechan ) 3. Panchtikta ghrita guggulu (ghee or tablet form) 4.reat same as per you Best of luck. Do the same as m having 7yr of experiences in treating skin ailments.

Thank you doctor
0

1-gandhak rasaya 2tds with milk 2-sutshekhar ras 2tds 3- haridrakhand 1tsp with milk bd

पुत्री ज्योति बाजपेई मैं आपको अनेकों बार समझा चुका हूं। कि जब आपको आयुर्वेद औषधियों की मात्रा का ज्ञान नहीं है। तो फिर आप ऊंट पटांग चिकित्सा संबंधी योग क्यों बताती रहती हो। शूतशेखर रस 2 रत्ती दिन में तीन बार सेवन करने का कोन सी मात्रा है। मुझे लगता है कि आप को स्वम् ही सोचना चाहिए। इस तरह के योग नहीं बताने चाहिए।
2

चक्रमर्द चूर्ण को सप्तपर्ण, नीम पत्र स्वरस से भावित कर लेप करें। साथ मे अम्ल पित्त की भी चिकित्सा करे चक्रमर्द चूर्ण खाने को न दे।

वंग भस्म के साथ चक्रमर्द देना नही चाहिए।

Thank you doctor
1

View 3 other replies

Dr.Saveshkumar Tiwariji Gandhakrasayan 1bd, Arogyavatdhani bati 1bd Suysekhar 1bd, Kamdudha (Motiyukta ) 1bd Mahamanjistha rista 30ml with equal water bd after meals. Apply Mahamarichyadi tail .

शरीर की सभी मेरिडियन्स पॉईंट जागृत्सवस्था और समुचित एनर्जी से भरे होते है, सुर्यस्थ के पहिले।बादमे नही. शरीर के विभिन्न अंगो की कार्यप्रणाली धूप, हवा,नमी, और चंचलता सुर्यस्थ व सुर्योदय के उपर निर्भर करती है। त्वचारोग मे यह जरूर है की इसका ध्यान रहे।दवाईया कोणसी भी दे ,असर ना होणे पर समय निश्चित करे.

Thank you doctor
1

Informative post

Vomiting may possible due to medication

सभी दवाईया सुर्यस्थ के पहिले, एवम सूर्योदय के बाद दे।

kyu...... reason??
0
Load more answers

Diseases Related to Discussion