Psoriasis and it's menifestations

PSORIASIS Skin lesion characterized by erythematous, scaly papule or plaque. Sharply defined skin lesion. SITE: Usually Extensor surface involved mainly knee, elbow, hand, lumbosacral region, scalp involved. Lesion developed at site of trauma (KOBNER’S PHENOMENON) also seen in Lichen Planus, Viral warts, Pityriasis rubra piloris. Skin lesion covered with Silvery Scales. On scrapping of scales leaves behind punctuate bleeding spot called AUSPITZ SIGN. Different Clinical Forms of Psoriasis: Nummular (Discoid) Psoriasis: Most common form, coin shaped lesion.  Guttate Psoriasis : Rain Drops like small lesion.  Palmo-plantar Psoriasis : Sterile pus in palm and soles.  Genital Psoriasis : Lesion on Penis or Vulva.  Erythrodermic Psoriasis : Exfoliative dermatitis like lesion.  Generalised Psoriasis: Lesion over whole body.  Scalp Psoriasis : Lesion Present but no Alopecia.  Nail Psoriasis : Nails are affected. Histological Changes in Skin Lesion: Parakeratosis : Immature cell in stratum corneum.  Acanthosis : Hyperplaisa of Stratum Malphighian layer.  Loss of glandular cell layer.  Dialated and tortuous blood vessesls around dermal Papillae. Nail Changes in Psoriasis :  Pitting  Subungual hyperkeratosis.  Destruction of Nail Palate.  Oncholysis (Separation of nail Palate from nail bed).  Discolouration of Nail Palate. Psoriatic arthritis :  Asymetrical oligoarthritis(Most of Cases)  Symettrical seronegative arthritis (RF-ve).  Arthritis of DIP joint. Homoeopathic Treatment:  ARSENICUM ALBUM : Dry, rough, scaly eruptions with Itching followed by burning. Generally worse after cold and scratching. Sometimes SULPHUR one dose require where arsenic is prescribed to complete the case as it is complementary of Arsenic.  BORAX : Itching on back of finger joints with intense itching and stinging. Aggravated from warm and ameliorated from cold weather. Unhealthy skin.  KALIUM ARSENICUM : Dry, Scaly ruption with intense itching worse after undressing ,change of weather , warmth. Patient is chilly and sensitive to cold.  ARSENICUM IODATUM : Dry, scaly eruptions with exfoliation of skin in large scales leaving raw excluding surface beneath. If history of TUBERCULOSIS is present then it acts better than any remeady.  HYDROCOTYLE ASIATICA : Excessive thickening of skin with marked exfoliation of skin. Specially indicated in “Psoriasis Gyrate” .  SEPIA OFFICINALIS : Dry, scaly thick crust upon joints and on elbows. Psorotic lesion especially over bends of the joints. Peeling off skin of palms and soles.  MEZERIUM : Especially for Scalp Psoriasis where there is thick exudates of purulent pus under the crust. Itching aggravate in bed.  CHRUSAROBINUM : Especially indicated in psoriasis with vesicular eruptions, foul smelling discharge with crust formation. DrSaurabh Suman Prasad Intern Dr. Yarubir Sinha Homoeopathic Medical College and Hospital laheriasarai,Darbhanga Bihar

19 Likes

LikeAnswersShare

मैं, हकीम मो अबू रिज़वान लाइफस्टाइल डीज़ीज़ स्पेशलिष्ट यूनानी फिज़िसियन यूनानी मेडिसींस रिसर्च सेंटर जमशेदपुर झारखंड। 28:- "DISEASE FREE WORLD" "दूध का भांडाफोड़"  मित्रो ! मेरा ये पोस्ट पूरी तरह से केवल उनलोगों को समर्पित है जो काफी लम्बे समय से CANCER (ANY TYPE & STAGE) ,HIGH B P, DIABETESE , HEART DISEASE, KIDNEY FAILURE, KIDNEY DISEASE, DIALYSIS, CHOLESTEROL, THYROID, ABDOMINAL DISORDER, RHEUMATOID ARTHRITIS, BONE & JOINT PAIN, PSORIASIS, ALZHIMER, PARKINSONISM, DEPRESSION, MIGRAINE आदि जैसी लाईलाज बीमारी से पीड़ित हैं ,डाक्टर ने जीवनभर दवा खाने  को कह दिया है| ऊपर वर्णित बिमारियों से पीड़ित लोग से सादर अनुरोध है कि जीवनभर तो "दूध" पीते रहे और दवा खाते रहे,अब आप केवल दस (10) दिन अपने भोजन की लिस्ट से दूध को हटा दें ,और जो भी अंगरेजी दवा लेते हैं उसको रोक दें |फिर देखिए कि सिर्फ दूध व ऐलोपैथिक दवा रोक देने से ही कितना फर्क पड़ता है|  " ......and then you may CONTACT me or meet me for further permanent CURE and  REVERSE your DISEASES forever. "  इस दुनिया में  इंसान  ही एक ऐसा जानवार  है  जो जीवन भर  दुसरे  जानवारों  का  दूध  पीता  है , ये दुध  उस  जानवर  यानी  गाय,बकरी के बच्चे केलिए होता है|कभी आपने गाय,भैंस,बकरी,गधा,घोड़ा या हाथी को किसी दूसरे जानवर का दूध पीते हुए देखा या सुना है| नहीं  ना! कभी सोचा है आपने कि ऐसा क्यूँ ? जानवर का दूध ही नहीं  बल्कि हर प्राणी का दूध सिर्फ और सिर्फ उसी के बच्चे केलिए है|ये इस संसार का सबसे बड़ा सच है| जानकर हैरानी होगी कि किसी भी जानदार के दूध में  GROWTH HORMONE ईन्सानी दूध की तुलना में 6 गुणा ज्यादा होता है|तभी तो जानवर का बच्चा छ: महीने में ही 50 किलो का हो जाता है|क्या आप भी अपने बच्चे को गाय,भैंस,गधा,चीता या शेर बनाना चाहते हैं ?लेकिन ऐसा होता है क्या?वो ईन्सान जो जीवनभर जानवर के बच्चे का हक छीनकर वही दूध पीता रहता है,फिर भी न तो जानवर जैसा ताकतवर बनता है और न ही उसकी हड्डियां जानवर जैसी मजबूत बन पाती हैँ |जबकि आप ये दूध पीते हैं ये सोचकर कि CALCIUM मिलेगा।कभी आपने ये सोचा है कि उन जानवरों को CALCIUM कहां से मिलता होगा?आम धारणा है कि दूध पीने से CALCIUM मिलता है जो हमारी हड्डियों को मजबूती प्रदान करती हैं|लेकिन वास्तव में ऐसा होता है क्या? आप सोचिए,कि स्व्यं उस जानवर के शरीर को CALCIUM कहाँ से मिलता होगा?वो तो हमारे जैसा भोजन भी नहीं लेते|जानवर तो सिर्फ और सिर्फ घास,पत्ते वगैरह खाते हैं|अगर आप हाथियों के मेले में जायें तो वहाँ बोर्ड पर चेतावनी लिखा मिलेगा :-"कृपया हाथियों को अपना भोजन न दें ,हाथी बीमार पड़ जायेंगे|"  मतलब ये कि आप जो भोजन लेते हो उसको जब हाथी या कोई जानवर खाए तो बीमार पड़ सकता है,फिर वो आपको कैसे स्वस्थ रख सकता है| मैं ऐसा इसलिए कह रहा कि उसके पीछे का सच बताना चाहता हूँ|बीमार होकर हमलोग जब भी डाक्टर के पास ईलाज केलिए जाते हैं तो हमको दूध पीने की सलाह जरूर देता है ताकि कमजोरी दूर हो सके|  DIABETES PATIENTS को तो और ज्यादा जोर देकर कहा जाता है कि एक गिलास दूध जरूर पीयो|हालाँकी वो डाक्टर भली भांति जानता है कि दूध पीने से डायबिटीज के मरीज का INSULIN को बनाने वाला Bita Cell मरता रहता है,और एक दिन ऐसा आता है कि उसके शरीर में INSULIN का बनना बिल्कुल बन्द हो जाता है|डाक्टर अब ये बताएगा कि INSULIN के INJECTION हर बार खाने के पहले लेना होगा|ऐसा क्यूँ होता है?आईए जानते हैं :- जो भी भोजन हमलोग खाते हैं उस में PROTEIN मौजूद रहता है,दूध में भी होता है जिसे Casein कहा जाता है|ये प्रोटीन chain की शक्ल के होते हैं|दूध के प्रोटीन के chain की तादाद 17 होती है|दूसरी ओर PANCREAS जहाँ INSULIN का निर्माण होता है जिसके निर्माण का काम Beta Cell करता है,उस Beta Cell के Chain की संख्या भी 17 ही होती है|अब,जैसे आप दूध पीते हैं उसी समय हमारा मस्तिष्क हमारी IMMUNITY SYSTEM को सूचना भेजकर अलर्ट कर देता है कि जो भी 17 नम्बर वाला मिले उसे मार दो|मगर,दूध के साथ-साथ ईन्सूलिन का Beta Cell भी मारा जा रहा है,और ये निरंतर चलता रहता है|नौबत यहाँ तक आ जाती है कि हमारे शरीर में ईन्सुलिन का बनना बिल्कुल ही बन्द हो जाता है|ये ईन्सुलिन ही हमारे शरीर की हर कोशिका को भोजन व ग्लूकोज पहुँचाने का कार्य करता है,जिसके हम स्व्यं ही हत्यारे हैं | इसके आगे की सच्चाई बहुत ही भयानक और रोंगटे खड़े कर देनेवाला है|और वो है - "डेयरी मिल्क"|आईए जानते हैं डेयरी फार्म वाली "दूध "की सच्चाई|  किसी भी डेयरी फार्म में हजारों गायें रखी जाती हैं , और रोजाना उन सभी गायों से दूध निकाला जाता और पैकेट में पैक करके मार्केट में सप्लाई कर दिया जाता है|उन गायों का दूध निकालने का काम कोई मानव मजदूर नहीं करता,बल्कि दूध निकालने का काम मशीन के द्वारा किया जाता है|दूध निकालने केलिए गाय के "थन" में मशीन फिट कर दिया जाता है और पाइप के द्वारा कन्टेनर में इकट्ठा किया जाता है|लगातार मशीन द्वारा "थन" से दूध निकालने के कारण गाय का थन ज़ख्मी हो जाता है,और दूध के साथ-साथ उसके "थन" के घाव से "PUS & BLOOD" निकलकर दूध के साथ कन्टेनर में पाइप के द्वारा जमा होते रहते हैं | "वर्ल्ड हेल्थ और्गनाईजेशन (WHO) की अनुशंषा या माणक यानि RECOMMENDATIONS के अनुसार ,"अगर एक लीटर दूध में 25000 करोड़ की संख्या में "PUS CELLS" पाया जाता है तो ये मान्य होगा|"  अब आप स्व्यं विचार कर सकते हैं कि आप जो दूध पीते हो वो असल में क्या है? ऊपर में जितनी भी बीमारियों के नाम दिए गए हैं ,और उन जैसी तमाम बीमारियों केलिए मैं कोई भारी भरकम दवायें नही देता|उसके उलट सबसे पहले तो आपकी सारी ऐलोपैथिक मेडीसिन्स भी बन्द करवा देता हूँ , और यही मेरा असल मक़सद है|सारी बात समझाने केलिए कुछ घण्टे की दरकार होती है। "COUNSELLING" करना पड़ता है,साथ में दवा के नाम पर सिर्फ एक दवा "पावडर" की शक्ल में देता हूँ ,जिसका काढ़ा बनाकर चाय की तरह पीना पड़ता है| नोट:- इस पोस्ट को पढ़ने के बाद अपना विचार अवश्य व्यक्त करें, मुझे अच्छा लगेगा| साथ ही आगे अपने सर्किल में ज़रुर शेयर करें | * मेरे पास दवा केवल एक ही है, जो पावडर की शक्ल में है| 4 - 4 ग्राम सुबह-शाम काढ़ा बनाकर पीना है| * ₹ 3000/- रूपये एक महीना (किसी भी बीमारी के लिए) है। * ₹ 6000/- रुपए एक महीना (HIV-AIDS, CANCER & TUMOUR के लिए) है। * इंडिया या इंडिया के बाहर कहीं भी स्पीड पोस्ट या कूरियर के द्वारा दवा भेजने का इंतज़ाम है| ........................... HAKEEM MD ABU RIZWAN BUMS,hons.(BU) +UNANI MEDICINES RESEARCH CENTRE+ HILL VIEW AREA,ROAD NO-6 JUGSALAI JAMSHEDPUR JHARKHAND. मोबाईल। 8651274288 व्हाट्स ऐप 9334518872 Email umrcjamshedpur1966@gmail.com@Dr. Kunal Kumar

Impressive I use ars iodatum& sulphur with allopathy medicine excellent results I will post some cases

Very nice detail explanation thanks sir

USEFUL AND HELPFUL... THANKS...DR

Good information. God bless you.

Nice post Dr. Saurabh sir

Thank you doctor
0

Helpful Update....

Thank you doctor
0

Nice helpful update

Thank you doctor
0

Informative post

Thank you doctor
0

Informative

Load more answers

Cases that would interest you